भारत में कुल कितने राज्य हैं | Bharat me kul kitne rajya hai | Rajya rajdhani

नमस्ते दोस्तो, आज हम इस लेख के माध्यम से भारत में कुल कितने राज्य हैं? इस सवाल का देणे वाले है, जिसमे भारत में कुल कितने राज्य हैं, भारत में कितने केंद्रशासित प्रदेश हैं, भारत के राज्य राजधानी के नाम, राज्य राजधानी के नाम ओर स्थापना तिथी। तो चलिये देखते है,

भारत एक प्राचीन सांस्कृतिक परंपरा वाला देश है। उत्तर भारत में आर्यों की उपस्थिति के कारण इसे आर्यावत भी कहा जाता था। भारतवर्ष को इसका नाम राजा भरत की आर्य शाखा से मिला था। उत्तर – पश्चिम की ओर बहने वाली नदी सिंधु कहलाती है। ईरानियों ने सिंधु नदी को हिंदू और भारत को हिंदुस्तान के रूप में संदर्भित किया था। यूनानियों ने सिंधु नदी को सिंधु कहा, जबकि रोमानियाई लोगों ने इसका नाम सिंधुस इंडस ओर भारत को इंडिया रखा था। भारत में कुल कितने राज्य हैं …

भारत के राज्य और राजधानी:

1) भारत की स्वतंत्रता के समय घटक राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के गठन की प्रक्रिया के दोरान संस्थानोका एकीकरण किया, जिसमे राजनीति के दो वर्ग मौजूद थे। एक ब्रिटिश प्रांत और दूसरा संस्थान। १९४७ के भारतीय स्वतंत्रता अधिनियम ने दो संप्रभु राज्यों, भारत और पाकिस्तान का निर्माण किया और संस्थानोको तीन विकल्पों दिये गये थे। जिसमे भारत में शामिल होणा, पाकिस्तान में शामिल होणा या स्वतंत्र रहने का पर्याय दिया गया था। उस समय, भारतीय क्षेत्र में ५५२ संस्थानो मे से ५४९ संस्थान भारत में शामिल हो गए थे। शेष ३ संस्थानोने (हैदराबाद, जूनागढ़ और कश्मीर) भारत में शामिल होने से इनकार कर दिया। जिसके बाद हैदराबाद को पुलिस कारवाई के तहत, जूनागढ़ को संप्रभुता द्वारा और कश्मीर को राजा ने दसतखत करके भारत में मिला लिया था।

2) १५ अगस्त १९४७ को भारत की आजादी के कुछ दिनों बाद भाषा के आधार पर राज्यों के पुनर्गठन की मांग जोर पकड़ने लगी। जिसके बाद १९४८ में भारत सरकार ने एस.के. डार की अध्यक्षता में भाषाई प्रांतीय आयोग की स्थापना की। उस समय आयोग ने भाषा के आधार पर राज्यों के पुनर्गठन को खारिज कर दिया था। इससे लोगों में असंतोष पैदा हो गया। हालाँकि, अक्टूबर १९५३ में, आंध्र प्रदेश (पहला भाषा-आधारित राज्य) को मद्रास राज्य से एक अलग तेलुगु भाषी राज्य बनाना पड़ा। आंध्र प्रदेश के गठन के साथ, भाषाई आधार पर अन्य राज्यों के निर्माण की मांग को बल मिला। इसलिए भारत सरकार ने दिसंबर १९५६ में फजल अली की अध्यक्षता में राज्य पुनर्गठन आयोग की स्थापना की। आयोग ने सितंबर १९५५ में अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की, और भाषाई आधार पर राज्यों के पुनर्गठन पर सहमत हुए। लेकिन आयोग ने “एक भाषा, एक राज्य” के सिद्धांत को खारिज कर दिया।

परिणामस्वरूप, १ नवंबर १९५६ को भारत में १४ घटक राज्य और ६ केंद्र शासित प्रदेश बनाए गए। १९५६ में राज्यों के बड़े पैमाने पर पुनर्गठन के बावजूद, भारत में जन आंदोलन और राजनीतिक स्थिति में बदलाव जारी रहा। कई राज्यों को भाषा या सांस्कृतिक एकरूपता के आधार पर नए राज्य बनाने के दबाव में विभाजित किया गया। इसके आगे एक एक नए राज्य का निर्माण होता गया।

भारत मे इससे पहले २९ घतक राज्य ओर ६ केंद्र्शाशित प्रदेश थे, लेकीन ३७० हटने के बाद जम्मु- काश्मीर राज्य को दो केंदशासित प्रदेश मे विभाजित किया गया। अब इस समय भारत मे कुल २८ घटक राज्य ओर ८ केंद्रशासित प्रदेश है।

अब हम भारत के वर्तमान २८ घटक राज्यों और ०८ केंद्र शासित प्रदेशों और उनकी राजधानियों पर एक नज़र डालेंगे। जो नीचे दी गई तालिका के अनुसार बने है।

भारत के राज्य और राजधानी के नाम :

क्र.राज्यराजधानीनिर्मिती वर्ष
आंध्रप्रदेशअमरावती०१ ऑक्टोबर १९५३
बिहारपाटणा०१ नोव्हेंबर १९५६
कर्नाटकबेंगलोरु०१ नोव्हेंबर १९५६
आसामगुवाहाटी०१ नोव्हेंबर १९५६
केरळतिरुवनंतपुरम०१ नोव्हेंबर १९५६
मध्यप्रदेशभोपाळ०१ नोव्हेंबर १९५६
ओडिसाभुवनेश्वर०१ नोव्हेंबर १९५६
राजस्थानजयपुर०१ नोव्हेंबर १९५६
तमिळनाडुचेन्नई०१ नोव्हेंबर १९५६
१०उत्तर प्रदेशलखनऊ०१ नोव्हेंबर १९५६
११पश्चिम बंगालकोलकाता०१ नोव्हेंबर १९५६
१२महाराष्ट्रमुंबई०१ मे १९६०
१३गुजराथगांधीनगर०१ मे १९६०
१४नागालँडकोहिमा०१ डिसेंबर १९६६
१५पंजाबचंदिगड०१ नोव्हेंबर १९६६
१६हरियाणाचंदिगड०१ नोव्हेंबर १९६६
१७हिमाचल प्रदेशशिमला२५ जानेवारी १९७१
१८मेघालयशिलॉंग२५ जानेवारी १९७२
१९मणिपुरइंफाळ२५ जानेवारी १९७२
२०त्रिपुराआगरतळा२५ जानेवारी १९७२
२१सिक्कीमगंगटोक२६ एप्रिल १९७५
२२अरुणाचल प्रदेशइटानगर२० फेब्रुवारी १९८७
२३मिझोरमऐझवाल२० फेब्रुवारी १९८७
२४गोवापणजी३० मे १९८७
२५छत्तीसगडरायपुर०१ नोव्हेंबर २०००
२६उत्तराखंडडेहराडुन०९ नोव्हेंबर २०००
२७झारखंडरांची१५ नोव्हेंबर २०००
२८तेलंगणाहैद्राबाद०२ जुन २०१४

केंद्रशासित प्रदेश कितने है:

केंद्र सरकार के प्रत्यक्ष नियंत्रण और प्रशासन के अधीन क्षेत्र केंद्र शासित प्रदेश कहलाते हैं। केंद्रशासित प्रदेश विभिन्न उद्देश्यों के लिए बनाए गए हैं। जिनके कूच कारण नीचे दिये गये हैं…

१) राजनयिक और प्रशासनिक कारण.
२) सांस्कृतिक अंतर.
३) सामरिक महत्व.
४)पिछड़े और आदिवासी लोगों की विशेष देखभाल और सुरक्षा.


वर्तमान में भारत में ८ केंद्र शासित प्रदेश हैं। हाल के दिनों में, दो केंद्र शासित प्रदेशों, जम्मू और कश्मीर और लद्दाख को ५ अगस्त २०१९ को घोषित किया गया था, लेकिन ये केंद्र शासित प्रदेश वास्तव में ३१ अक्टूबर २०१९ को अस्तित्व में आए।

हम नीचे दी गई तालिका के अनुसार केंद्र शासित प्रदेशों के बारे में जानेंगे…

भारत के केंद्रशासित प्रदेश ओर राजधानी के नाम:

क्र.केंद्रशासित प्रदेशराजधानीकार्यकारी मंडळनिर्मिती वर्ष
दिल्लीदिल्लीअ) नायब राज्यपाल
ब) मुख्यमंत्री
क) मंत्रिमंडळ
१९५६
अंदमान आणि निकोबार बेटेपोर्ट ब्लेअरनायब राज्यपाल१९५६
लक्षद्वीपकवरतीमुख्य प्रशासक१९५६
पॉँडेचेरीपॉँडेचेरीअ) नायब राज्यपाल
ब) मुख्यमंत्री
क) मंत्रिमंडळ
१९६२
चंदिगढचंदिगढमुख्य प्रशासक१९६६
जम्मु- काश्मीरश्रीनगर नायब राज्यपाल३१ ऑक्टोबर २०१९
लडाखलेहनायब राज्यपाल३१ ऑक्टोबर २०१९
दीव – दमणदीव दमनमुख्य प्रशासक२६ जानेवारी २०२०

भारत में वर्तमान में २८ घटक राज्य और ०८ केंद्र शासित प्रदेश हैं। भारत की राजधानी दिल्ली है, और आर्थिक राजधानी मुंबई है।

आपको यह लेख कैसा लगा? आप कमेंट करके अपने विचार रख सकते है।

आप यह भी पढ सकते है…

१) NGO full form in Hindi.

२) Kevladev national park in hindi.

Leave a Comment